Philosopher kaise bane जानिए पूरी जानकारी-योग्यता, फीस, और सैलरी

1968 ई• में आई स्टेनली क्यूबिक की फिल्म 2001 ए स्पेस ओडिसी फिलोसोफी का ही परिणाम है जिसमें टेक्नोलॉजी को और पहले से एडवांस के बारे में बताया था फिलॉसफी जीवन का एक खास हिस्सा होता है एक दार्शनिक भविष्य के लिए विजन तैयार करते हैं जिससे की एडवांस में ही किन्हीं चीजों की तैयारी करी जा सकती है तो चलिए आपको विस्तारपूर्वक से बताते हैं कि Philosopher kaise bane सकते है |

फाइलोस्फार (दार्शनिक) कौन होते हैं Philosopher kaise bane

Philosopher kaise bane  एक फिलॉस्फर उसे कहा जाता है जो फिलॉसफी की प्रैक्टिस करवाता है फिलॉस्फर शब्द ग्रीक भाषा के बना हुआ है जिसका अर्थ ‘लवर ऑफ विजडम’ होता है मॉडर्न साइंस में कहा जाए तो फिलॉस्फर एक बुद्धिजीवी होता है जो फिलॉसफी की एक या अधिक ब्रांचेस में योगदान करता है जैसे सौंदर्यशास्त्र, नैतिकता, ज्ञानमीमांस, विज्ञान का दर्शन तर्कशास्त्र, तत्वमीमांसा, सामाजिक सिद्धांत, धर्म का दर्शन और राजनीतिक दर्शन इत्यादि।

फिलोसोफर बनने के लिए स्किल

फिलोसोफर बनने के लिए ट्रांसफरेबल स्किल का होना काफी जरूरी होता है अन्य आवश्यक स्किलों के नाम नीचे दिए जा रहे हैं

  • इंटेलेक्चुअल स्किल्स
    • क्रिटिकल
    • एनालिटिकल
    • सिंथेटाइज़िंग
    • प्रॉब्लम-सॉल्विंग
  • कम्युनिकेशन स्किल्स
    • रिटन
    • ओरल
  • ऑर्गनाइजेशनल स्किल्स
    • वर्किंग इंडेपेंडेंटली
    • पहल करना
    • टाइम मैनेजमेंट
  • इंटरपर्सनल स्किल्स
    • दूसरों के साथ काम करने की क्षमता
    • दूसरों को प्रेरित करने की क्षमता
    • फ्लेक्सिबिलिटी
    • एडेप्टिबिलिटी
  • रिसर्च स्किल्स

फाइलोस्फार (दार्शनिक) के सारे फील्ड्स

Philosopher kaise bane  फिलोसोफर के व्यापक सब फील्ड को आमतौर पर लॉजिक, एथिक्स, मेटाफिजिक्स में बांटा गया है Philosopher kaise bane यह जानने के लिए सबसे पहले दिए गए फील्ड को जानना जरूरी होता है जो कि इस प्रकार से हैं

Philosopher kaise bane

लॉजिक

किसी भी बोली गई या लिखी गई चीजों में लॉजिक का होना बेहद जरूरी होता है यह व्यक्ति की इंटेलीजेंस के जितना ही महत्वपूर्ण होता है लॉजिक में हम आमतौर पर दो वाक्यों का निर्माण करते हैं जिन्हें प्रीमाइसेस के नाम से जाना जाता है और उनका इस्तेमाल निकालने के लिए किया जाता है इस तरह के लॉजिक को सिलोजिस्म भी कहा जाता है जिसकी शुरुआत लोकप्रिय यूनानी दार्शनिक अरस्तु ने की थी Philosopher kaise bane

एथिक्स

सभी व्यक्ति रोजाना अपने जीवन में कुछ स्थापित एथिकल नॉर्म्स के अनुसार कंडक्ट करने की कोशिश करते हैं उदाहरण के लिए कुछ ऐसे ऑर्गेनाइजेशन है जिसकी एथिकल कमेटीयां है जो अपने एंप्लॉई के लिए भारतीयों के नियम को निर्धारित करते हैं एथिक्स का संबंध सही और गलत की परिभाषा से होता है हर फिलॉस्फर की एथिक्स को लेकर अपनी अपनी सब्जेक्टिव अंडरस्टैंडिंग अलग-अलग होती है। Philosopher kaise bane

मेटाफिजिक्स

Philosophy in life मैटेफिजिक्स फिलोसॉफिकल डिबेट का एक प्राइमरी एरिया होता है यह मुख्य रूप से दुनिया के नेचर को एक्सप्लेन करने के लिए होता है पारंपरिक रूप से इसके दो अलग-अलग पढ़ाई के क्षेत्र भी होते हैं और चीन में ओंटोलॉजी भी शामिल होता है Cosmology universe की origin, evolution और उनकी eventual fate को समझने पर केंद्रित होता है । और दूसरी तरफ ओंटोलॉजी विभिन्न प्रकार की चीजों की जांच करता है जो मौजूद है और एक दूसरे के साथ उनसे संबंधित होते हैं मॉडर्न साइंस की खोज से बहुत पहले, साइंस से संबंधित सभी प्रश्न मेटाफिजिक्स के एक पार्ट के रूप में भी पूछे जाते थे।

एपिस्टेमोलॉजी

एपिस्टेमोलॉजी फिलोसोफी का एक अन्य मुख्य हिस्सा होता है इस शब्द की उत्पत्ति यूनानी शब्द में के जरिए हुआ है जिसका अर्थ ज्ञान की स्टडी होता है
एपिस्टेमोलॉजी मूल रूप से ज्ञान की स्टडी के बारे में होता है एपिस्टेमोलॉजी से संबंधित एक फंडामेंटल प्रश्न यह भी है कि ज्ञान क्या होता है यदि हम सिम्युलेटर की दुनिया में जी रहे हैं तो हम इसे कैसे जाने यह कुछ आवश्यक प्रश्न के लिए एपिस्टेमोलॉजी के जरिए उत्तर ढूंढना चाहिए। Philosopher kaise bane

फाइलोस्फार (दार्शनिक) बनने के लिए कोर्सेज

Philosopher kaise bane फिलोसोफर करने के लिए अंडर ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट आदि कोर्सेज के नाम एवं अवधि नीचे दी गई है।

कोर्सेज अवधि
BA in Philosophy 3 वर्ष
MA in Philosophy 2 वर्ष
Master of Philosophy (MPhil) 2 वर्ष
PhD 2 वर्ष

फाइलोस्फार (दार्शनिक) करने के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज

यूनिवर्सिटीज औसत सालाना फीस (INR)
प्रबंधन अध्ययन संस्थान, निम्स विश्वविद्यालय 50,000
निज़ाम कॉलेज 13,800
क्राइस्ट यूनिवर्सिटी 70,000- 1.02 लाख
एमिटी विश्वविद्यालय, ग्वालियर 2,19,000 लाख
एमएलएसयू – मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय 16,390
श्री माता वैष्णो देवी विश्वविद्यालय 75,000-1.60 लाख
बैंगलोर विश्वविद्यालय 14,000

फाइलोस्फार (दार्शनिक) करने के लिए योग्यता

  • बैचलर कोर्स करने के लिए आपके पास किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं में काम से कम 45% अंकों के साथ है उत्तीर्ण करना आवश्यक होता है।
  • मास्टर्स करने के बाद आपको किसी भी विषय में बीए प्रोग्राम या वा हंस में न्यूनतम 55% अंकों के साथ ग्रेजुएशन किया हुआ होना चाहिए।

Philosopher kaise bane

  • एमफिल करने के लिए कैंडिडेट्स को किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से किसी भी फील्ड से मास्टर्स में न्यूनतम 60% अंक होने चाहिए।
  • पीएचडी करने के लिए आपके पास किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से फिलासफी में MA या MPhil किया हुआ होना चाहिए।

विश्वविद्यालय में आवेदन की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको अपने पसंदीदा यूनिवर्सिटी की ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा
  • रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नाम और पासवर्ड मिलेगा Philosopher kaise bane
  • फिर वेबसाइट में आपको साइन इन करने के बाद आपको अपने कोर्स को चुनना होगा जिस कोर्स को आप करना चाहते हैं
  • फिर आपको अपने शैक्षणिक योग्यता वर्ग के साथ फॉर्म को भरना होगा Philosopher kaise bane
  • इसके बाद आपको फॉर्म को सबमिट करना होगा और जो भी आवेदन शुल्क होगी उसका भुगतान करना होगा
  • यदि एडमिशन प्रवेश परीक्षा के आधार पर होता है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें
  • प्रवेश परीक्षा के अंकों के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट को जारी किया जाएगा

इसे भी पढ़े-BSC fashion designing क्या है

फिलोसोफी के कोर्स के पश्चात जॉब एवं सैलरी

जॉब प्रोफाइल्स औसत सालाना सैलरी (INR)
लॉयर 7-9 लाख
प्रोफेसर 12-13 लाख
पब्लिक पालिसी प्रोफेशनल 10-12 लाख
मार्केटिंग प्रोफेशनल 12-14 लाख
हैल्थकेयर प्रोफेशनल 12-14 लाख
पत्रकार 5-7 लाख
फाइनेंशियल सर्विसेज प्रोफेशनल 6-8 लाख

FAQs

फिलॉस्फर बनने के लिए किन तत्वों की आवश्यकता होती है?

फिलॉस्फर बनने के लिए एथिक्स मेटाफिजिक्स लॉजिक जैसे आदि तत्वों की आवश्यकता होती है।

दुनिया के सबसे पहले फिलॉस्फर कौन थे?

विश्व के पहले फिलॉस्फर Aristotle, Socrates और Plato थे।

फिलॉस्फर बनने में कितन वर्ष लगते हैं?

बैचलर डिग्री प्राप्त करने में आपको 3 से 4 वर्ष का समय लगता है तथा मास्टर डिग्री प्राप्त करने में 1 से 2 वर्ष का समय लगता है और MPhil की बात करें तो इसमें भी आपके 2 से 3 वर्ष का समय लगता है और एचडी में भी आपके पूरे 2 या 3 वर्ष के समय लगता है कुल मिलाकर आपको 9 वर्ष का समय के पश्चात आप एक अच्छे फिलॉस्फर बन जाएंगे।

Leave a Comment